Friday, August 22, 2008

बड़े दिनों के बाद

बड़े दिनों के बाद आज
सूरज से पहले जगी,
बड़े दिनों के बाद सुबह की
ठंढी हवा मुझपर लगी।

बड़े दिनों के बाद पाया 
मन पर कोई बोझ नहीं,
बड़े दिनों के बाद उठकर
सुबह नयी-नयी सी  लगी।

बड़े दिनों के बाद दिन के
शुरुआत की उमंग जगी,
बड़े दिनों के बाद मन में 
पंख से हैं लगे कहीं।

बड़े दिनों के बाद आज
मन में एक कविता उठी,
बड़े दिनों के बाद आज,
कविता काग़ज़ पर लिखी। 

12 comments:

kavita said...

arai in kavitaon she bahar nakil kar kuch aur shochoto majha aayeaga

Raghubar Jha said...

jaya ji u r great, the way u use 2 write is great...please keep it up......

Arushi said...

maje aa gaye

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

जया जी , बहुत बढ़िया.....

kaypi said...
This comment has been removed by the author.
gunpreet said...

loved it and will be reciting it in my skul

gunpreet said...

<3

Anonymous said...

very precise, impactfull..!!!
AMAZING!!!

Anonymous said...

jaya aunty , thanks.because of ur poem bade dino ke bad i won the competition.

Jaya said...

Congratulations! I assume it was a recitation competition.

lokesh kumar said...

supercool !

sandeep garhwal said...

बहुत उम्दा